Delhi Shramik Sangathan

Home » Books

Category Archives: Books

Volga Se Ganga


Volga Se Ganga

Rahul Sankrityayan

buy Now

51b6g-3fmol-_sx332_bo1204203200_

 

 

 

 

 

buy-now-credit-card-icons-button

 

 

 

 

 

Advertisements

Premchand Ki Sarvashreshta Kahaniyan


Book Description

प्रेमचंद ने हिन्दी कहानी को निश्चित परिप्रेक्ष्य और कलात्मक आधर दिया। उनकी कहानियां परिवेश बुनती हैं। पात्रा चुनती हैं। उसके संवाद बिलकुल उसी भाव-भूमि से लिए जाते हैं जिस भाव-भूमि में घटना घट रही है। इसलिए पाठक कहानी के साथ अनुस्यूत हो जाता है। प्रेमचंद यथार्थवादी कहानीकार हैं, लेकिन वे घटना को ज्यों का त्यों लिखने को कहानी नहीं मानते। यही वजह है कि उनकी कहानियों में आदर्श और यथार्थ का गंगा-जमुनी संगम है। कथाकार के रूप में प्रेमचंद अपने जीवनकाल में ही किंवदंती बन गये थे। उन्होंने मुख्यतः ग्रामीण एवं नागरिक सामाजिक जीवन को कहानियों का विषय बनाया। उनकी कथायात्रा में श्रमिक विकास के लक्षण स्पष्ट हैं, यह विकास वस्तु विचार, अनुभव तथा शिल्प सभी स्तरों पर अनुभव किया जा सकता है। उनका मानवतावाद अमूर्त भावात्मक नहीं, अपितु सुसंगत यथार्थवाद है।

51dwnjoeuul

 

 

 

 

buy-now-credit-card-icons-button

 

BOCW (Regulation of Employment and Conditions of Service) Act, 1996


51cjn59p6gl-_sx352_bo1204203200_Building and Other Construction Workers (Regulation of Employment and Conditions of Service) Act, 1996 Along with Rules, 1998 with Cess Act and Rules

Books Buy online

buy-now-credit-card-icons-button

Capital (Das Kapital)


41feuue6ldlThis book has been specifically formatted for the Amazon Kindle reader.
We did our best to take advantage of all the features of the kindle to maximize your reading experience with this book.

This book contains all eight volumes of Capital.

An extensive treatise on political economy written in German by Karl Marx and edited in part by Friedrich Engels. The book is a critical analysis of capitalism and its practical economic application and also, in part, a critique of other related theories. Its first volume was published in 1867.

Buy Online

buy-now-credit-card-icons-button

%d bloggers like this: