DELHI SHRAMIK SANGATHAN

Home » Report » The Real Iron Women(एक महिला एक राजमिस्त्री)

The Real Iron Women(एक महिला एक राजमिस्त्री)

Follow on Twitter

Sub: Notice of peaceful dharna (sit-in) at your office for the below mentioned issues:

  1. Denying the registration, renewal and processing of claim applications of construction workers under Delhi Building & Other Construction Workers Welfare Board (DBOCWWB) by Labor department officers since May’2018.
  2. Non settlement of pending cases since long- Non issuing of pass books to verified construction workers, illegal detention of pass books for renewal, lapse cases and claim applications under various social security schemes of DBOCWWB.

सदियों से पितृसत्तात्मक समाज में औरतों को नीचे तबके, कमजोर और अबला नारी समझता आ आया है। लेकिन अब वक्त़ बदलता जा रहा है, अब औरतें पुरूषों को शिक्षा, फौज और विज्ञान आदि हर क्षेत्र में कड़ी टक्कर दे रही हैं। आज मैं आपको एक ऐसी ही महिला के बारे में बताने जा रहा हूं
इनका नाम संगीता है। सतना जिला, मध्य प्रदेश की रहने वाली हैं 15 वर्ष की आयु में इनकी शादी मुन्ना से कर दी गई। मुन्ना का परिवार पहले से ही दिल्ली में रहता था। संगीता शादी के बाद 2004 से अपने पति के साथ दिल्ली में रहने लगी। दोनों पति पत्नी अपना और अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए बेलदारी का काम कर रहे थे।

???????????????????????????????

2013 में अचानक संगीता के पति की मौत बीमारी की वजह से हो गई। 28 वर्ष की आयु में सास ससुर और तीन बच्चों की सारी  जिम्मेदारी संगीता के ऊपर आ गई। संगीता अपने बेलदारी के काम से अकेले परिवार आवष्यकताओं जैसे बच्चों की शिक्षा आदि  के लिए संसाधन नहीं जुटा पा रही थीं।
अपने परिवार की आवष्यकताओं को पूरा करने के लिए संगीता ने बेलदार से राजमिस्त्री बनने का एक महत्वपूर्ण फैसला लिया।

संगीता की मेहनत और लगन ने एक वर्ष में कुशल राजमिस्त्री बना दिया। इन्जीनियर, ठेकेदार और अन्य पुरूश राजमिस्त्री भी महिला राजमिस्त्री के काम के कायल हैं, सास-ससुर को संगीता पर गर्व है कि उनकी बहू एक महिला होकर राजमिस्त्री का काम करती है। वर्तमान समय संगीता चार सौ पचास रूपये प्रतिदिन का कमाती हैं।

पूरे आत्मसम्मान के साथ अपने बच्चों की परवरीश कर रहीं हैं। संगीता की हिम्मत और हौसला उन लोगों के लिए एक मुंहतोड़ जबाव है जो महिलाओं को कमजोर, अबला, और पैरों की जूती समझते हैं।

-Ravi Kumar Saxena


1 Comment

  1. विजय दास says:

    किया हो रहा गोरमेन्ट को

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: