DELHI SHRAMIK SANGATHAN

Home » 2013 » September

Monthly Archives: September 2013

शहरों के निर्माता (The Construction worker) official Trailer


Delhi Shramik Sangathan Present

The Construction worker
शहरों के निर्माता

a film by
Delhi Nirman Mazdoor Sangathan

Advertisements

निर्माण मजदूरों का पंजीकरण अभियान


रात्री पंजीकरण अभियान

 पश्चिमी  दिल्ली नजफगढ़ नाले किनारे बसा हुआ है। यह बस्ती 35 से 40 बर्ष पुरानी है इस बस्ती में अधिकतर मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार और पश्चिम बंगाल के लोग अमानवीय ढंग से अपना जीवन जीते हैं जोकि अधिकांश निर्माण मज़दूर हैं।
दिल्ली निर्माण मज़दूर संगठन द्वारा निर्माण मज़दूरों का दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में अधिक से अधिक पंजीकरण कराने के लिए रात्री पंजीकरण अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान शाम 4 बजे से रात 10 बजे तक चलाया जाता है। इस रात्री पंजीकरण अभियान के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा निर्माण मज़दूरों तक पहुंच रहे हैं और उनके निर्माण मज़दूर होने के नाते क्या अधिकार हैं के बारे में जागरूक भी किया जा रहा है।

Ravi Kumar Saxena

ImageImageImageImageImageImageImageImageImageImageImage

Panjikaran Abhiyaan Jaari Hai……


दिनाक 10/9/13 को कीर्ति नगर चूना भटठी में दो स्थानों पर आम सभा की गई इस आम सभा में अधिकतर कारपन्टर यानि बढ़ई निर्माण मज़दूरों ने हिस्सा लिया। दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण करवाने के लिए जानकारी दी गई।
दिनाक 13/9/13 को माडल टाउन सिगरेट वाला बाग, हैदर पुर बस्ती और विष्नु गार्डन लेबर चैक पर जाके निर्माण मजदूरों को दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण करवाने के लिए जानकारी दी गई।
दिनाक 14/9/13 को बी जी- 7 पश्चिम विहार और बिन्दापनर लेबर चैक पर दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण करवाने के लिए व जो पहले से पंजीकृत निर्माण मज़दूर हैं वे लोग समय पर अपने लेबर कार्ड का नविनीकरण करायें आदि बिन्दुओं पर लोगों को जानकारी दी गई।
दिनाक 21/9/13 को सुल्तान पुरी डी-7 में आम सभा का आयोजन किया गया। इस आम सभा में निर्माण मज़दूरों ने अच्छी संख्या में भाग लिया। इस बैठक के दौरान लोगों की सहमति से दस लोगों को लीडर के तौर पर कोर टीम के लिए चुना गया। एवं दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण करवाने के लिए जानकारी दी गई।

Ravi Kumar Saxena

ImageImageImage

घरेलू कामगारों के संग जागरूकता बैठक


दिल्ली घरेलू कामगार संगठन द्वारा दिनाक-9/9/13 को मीरा बाग की बस्ती में आम सभा का आयोजन किया गया। इस आम सभा का उद्देश्य था कि घरेलू कामगारों के लिए सामाजिक सुरक्षा का कानून क्यों आवश्यक है के बारे में बताया गया.

Ravi Kumar Saxena

ImageImage

श्रमिक कल्याण बोर्ड और कानून के प्रति जीरो जानकारी


निर्माण मजदूर हो रहे हैं जागरूक

दिल्ली निर्माण मज़दूर संगठन द्वारा जगरूकता एवं पंजीकरण करवाओं अभियान के तहत नांगलोई, पश्चिम विहार, मीरा बाग, सहयोग विहार, सावदा घेवरा और केशव पुरम लोरेन्स रोड सहित छह क्षेत्रों में आम सभा की गई।
इस आम सभाओं का मुख्य उद्देश्य था कि अधिक से अधिक निर्माण मज़दूरों को भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण कानून 1996 के प्रति जागरूक करना तथा इस कानून से अधिकार के रूप में मिलने वाले लाभों के बारे में बताना और दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण कराने की प्रक्रिया को सरल भाषा में समझाना।

श्रमिक कल्याण बोर्ड और कानून के प्रति जीरो जानकारी

जब हमने निर्माण मज़दूरों से पूछा कि क्या आपको दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड के बारे में जानकारी है? तो उन्होंने कहा हमें इस बारे में कुछ भी नहीं मालूम फिर हमने पूछा कि आपके लिए भारत सरकार ने सामाजिक सुरक्षा का कानून बनाया है उसके बारे में तो आपको पता होगा? बैठक में मौजूद सभी लोगों ने सिर हिला दिया।
इस आधुनिक सूचना के उजाले युग में लोग आज भी अज्ञानता के अन्धकार में जी रहे हैं। जहां सरकार अपने चुनाव प्रचार के लिए जनता का पैसा पानी की तरह बहा रही है वहीं भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण कानून का प्रचार करने के लिए सरकार के पास पैसा नहीं हैं।

हमें संगठन की जरूरत है

बैठक के दौरान कई अधिकतर निर्माण मज़दूरों ने कहा कि हम भी चाहते हैं कि हमें हमारे अधिकारों के प्रति जानकारी हो ताकि हम एक जागरूक नागरिक बन सकें। लेकिन हमें ऐसे संगठन की जरूरत है जो हमारा मार्गदर्शन कर सके।

जगरूकता अभियान जारी है

एक सप्ताह में छह क्षेत्रों में निर्माण मज़दूरों के संग बैठक की। इन बैठकों में लगभग पांच सौ लोगों ने हिस्सा तथा करीबन 250 निर्माण मज़दूरों दिल्ली निर्माण मज़दूर संगठन की सदस्यता ली।

Ravi Kumar SaxenaImageImageImageImage

%d bloggers like this: