DELHI SHRAMIK SANGATHAN

Home » 2013 » June

Monthly Archives: June 2013

किशोर बच्चों ने दिखाया अभिनय का हुनर


दिल्ली श्रमिक संगठन द्वारा लोखण्डे भवन विकास नगर में किशोर किशोरियों के संग चार दिवसीय नाटक कार्याशाला आयोजित की गई। DDA द्वारा पुनर्वासित शिव विहार जे जे कालोनी हस्तसाल के किशोर बच्चों ने इस कार्याशाला में हिस्सा लिया। कार्याशाला के दौरान इन्हें चेहरे के हाव-भाव, आंगिक भाषा तथा नाटक से जुड़ी तमाम एक्सरसाइज़ कराई गईं। Image

किशोर किशोरियों को किन्हीं तीन विशयों पर खुद से लघु नाटक बनाने की एक्सरसाइज दी गई, इन बच्चों ने अपनी सूझ-बूझ से दामिनी रेप केस, बाल श्रम, और नशे के बेहद संवेदनशील मुददे पर छोटे-छोटे नाटक बनायें।  घरेलू कामगार महिलाओं को समाज सम्मान

की नज़र से नहीं देखता है, इन महिलओं के साथ आर्थिक शोषण से लेकर शारीरिक, मानसिक और यौन शोषण तक होता है। इसी स्थिति को दिखाने के लिए घरेलू कामगार के मुददे पर एक पूरा नाटक बनाया गया।

Imageकिशोर किशोरियों ने मौज मस्ती व अनुशासन का पालन करते हुए नाटक सीखा और एक नया नाटक बनाने में अपना सहयोग दिया। इस नाटक में बच्चों समीत 26 किशोर किशोरियों ने भाग लिया। दिल्ली श्रमिक संगठन के कार्यकर्त्ता रवि कुमार सक्सेना जी के द्वारा नया नाटक घरेलू कामगार का डायरेक्शन किया गया।

–Ravi Kumar

विकास नगर लोखण्डे भवन में किशोरावस्था के बच्चों के साथ सामुदायिक रेडियो के विषय में कार्यशाला आयोजित की गई।


ImageImage

झुग्गी के बदले नहीं मिला घर तो करेंगे प्रदर्शन


SAM_2273

दिल्ली श्रमिक संठन के बैनर तले शकुर बस्ती में झुग्गी झोपड़ी के मुद्दे पर महा सभा का आयोजन स्थानीय लोगों द्वारा किया गया।  

बस्तीवालों ने सभा में बताया कि नारथन रेल्वे वालों ने हमारी बस्ती में 4 अप्रेल 2013 को बस्ती तोड़ने का नोटिस लगाया कि जल्द से जल्द झुग्गियां खाली करें। नोटिस लगाने के बाद रेल्वे वालों ने यह अभी तक नहीं बताया है कि बस्ती तोड़ने के बाद बस्तीवालों का कहां पुनर्वास किया जायेगा।
बस्तीवालों ने पूछा कि क्या कोई ऐसा उपाय है जिससे हमारी बस्ती बच जाये या टूटने के बाद हमें जगह मिले?

बिन्दु जी ने प्रश्न का उत्तर देते हुए बताता कि यदि रेल्वे वालों को इस जमीन की जरूरत है तो बस्ती टूटना तय है  पुरानी स्लम नीति के तहत रेल्वे, पार्क और नाले की जमीन पर बसी बस्तियों को पुनर्वास के लिए अयोग्य माना जाता था लेकिन नई स्लम नीति के तहत के इन जमीनों पर बसी बस्तियों का पुनर्वास करना योग्य माना गया है।

SAM_2262

 अगर नारथन रेल्वे वाले आपकी बस्ती को तोड़ते हैं तो इस नीति के तहत आपके पुनर्वास की व्यवस्था करनी होगी। बस्तीवालों को इस जानकारी से थोड़ी राहत तो मिली ही है लेकिन इसी के साथ बस्ती के लोगों ने कहा कि यदि सरकार हमें घर के बदले जमीन नहीं देती है तो हम शान्ति आर अहिंसा के साथ धरना प्रदर्शन करेंगे।

 

-Ravi Kumar

 

work in progress


Image

दिल्ली श्रमिक संगठन एक फेडरेशन है और इस फेडरेशन में २ संगठन और है एक दिल्ली निर्माण मजदूर संगठन और दूसरा दिल्ली घरेलु कामगार संगठन. दिल्ली निर्माण मजदूर संगठन दिल्ली के राजमिस्त्री, कारपेंटर, एलेक्ट्रिसं, बेलदार, पैटर, घिसाई, वल्डर और सिषा जैसे आदि काम करने वाले लोगो का पंजीकरण दिल्ली के लेबर बोर्ड में करता है और उनसे मिलने वाले लाभों की जानकारी मजदूरों को देता है ताकि वह आपने हक़ के लिए लड़ का ले सके ।

दिल्ली घरेलु कामगार संगठन के काननू की मांग चल रही है।

 

 

 

 

 

Asit Heera

करन्ट लगने से मज़दूर घायल, संगठन के हस्तक्षेप के बाद मिला मुआवजा


कुलदीप एक निमार्ण मज़दूर है वह राजमिस्त्री का काम करता है। 22 मई 2013 को उत्तम नगर हस्तसाल रोड स्थित एक मकान में चुनाई का काम कर रहा था काम करते समय कुलदीप का सिर छत के ऊपर से जा रहीं बिजली के तार से टकरा गया और वह करन्ट का झटका लगने से छत के नीचे गिर गया जिससे उसके सिर और हाथ पैर में गम्भीर चोटें आई।
ठेकेदार ने आनन फानन में उत्तम नगर के प्राइवेट नर्सिंग होम में भर्ती करा दिया घायल मज़दूर के परिजनों ने जब ठेकेदार और मालिक से मुआवजे की मांग की तो दोनों मुआवजा देने से साफ मुकर गए।
हताश परिजन जोकि पहले से दिल्ली निर्माण मज़दूर संगठन के मेम्बर हैं, ने सारा घटनाक्रम संगठन के कार्यत्ताओं को बताया।
कार्यत्ताओं ने ठेकेदार और मालिक को चेताया कि कार्यस्थल पर दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति को देना कानूनी रूप से अनिवार्य है यदि आप उसे मुआवजा नहीं देंगे तो आपके खिलाफ मुआवजा न देने के जुर्म में उचित कानूनी कार्यवाही की जायेगी।
कार्यवाही के भय और संगठन के हस्तक्षेप करने के बाद घायल निर्माण मज़दूर कुलदीप को इलाज कराने के लिए 35 हज़ार का मुआवजा मिला।

-Ravi Kumar

बस्ती वालों को घर टूटने का डर और नेता थमा रहे हैं इन्हें आश्वाशन के लड्डू


बस्ती वालों को घर टूटने का डर और नेता थमा रहे हैं इन्हें आश्वाशन के लड्डू

शकूर बस्ती रेलवे किनारे स्थित झुग्गी झोपडी का तोड़ने का नोटिस नार्थ रेलवे वालों ने क्या लगाया की पूरी बस्ती में हाहाकार सा मच गया, बस्ती के प्रधान व सभी बस्तीवाले कपिल सिब्बल, रेलवे मंत्रालय के मंत्री पवन बंसल और कांग्रेस युवराज राहुल गांधी से मिले सभी नेताओं एक ही शब्द निकाले की घबराओ मत कुछ नहीं होगा
बस्तीवालों को आश्वाशन का लड्डू थमा के वापिस लौटा दिया
बस्ती के प्रधान सुखविंदर उर्फ़ चुलबुल पण्डे जी दिल्ली श्रमिक संगठन के कार्यकर्ता बिंदु जी संपर्क कर हमें बस्ती में बुलाया और उन लोगों ने एक नुक्कड़ मीटिंग का भी आयोजन किया प्रधान जी ने हमें बस्ती तोड़ने का नोटिस दिखाया,  हमने बस्ती वालों को सुझाव दिया की बस्ती के इस मुद्दे पर एक महा सभा करते हैं जिसमे सभी बस्ती के लोग मौजूद हों  अंत में सभी ने यह तय किया की 13 जून को एक बस्ती के सभी लोगों के साथ महा सभा का आयोजन किया जाए, सभी महा सभा करने के लिए सहमत हुए

Ravi Kumar

ImageImage

निर्माण मजदूरों ने जाने अपने हक़


दिल्ली निर्माण मज़दूर संगठन द्वारा आज लोखण्डे भवन विकास नगर में निर्माण मज़दूरों के साथ बैठक आयोजित की गई। इस बैठक का मुख्य उददेश्य था जो निर्माण मज़दूर, संगठन के सदस्य बन, अपना पंजीकरण दिल्ली भवन एवं सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड में करा रहे हैं, उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना तथा सन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड से मिलने वाले लाभ के बारे में जानकारी देना।
इस बैठक में निर्माण मज़दूरों के लिए सामाजिक सुरक्षा कानून किस तरह बना उसके इतिहास के बारे में बताया।

बोर्ड से मिलने वाले लाभ के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि जो पंजीकृत निर्माण मज़दूर हैं उनके दो बच्चों के लिए वजीफा मिलता है, काम के दौरान मृत्यु होने पर एक लाख तक मुआवजा मिलता है, महिला को गर्भवती होने पर जच्चा बच्चा का खर्च मिलता है, मकान बनाने, मकान खरीदने, औजार खरीदने व बच्चों की शादी के लिए आर्थिक सहायता मिलती है, 60 वर्ष की आयु होने पर काम की पेंशन मिलती है।
कुछ मज़दूर साथियों ने अपनी समस्या रखते हुए यह सवाल उठाया कि हमारे बीच में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो मजबूरी के कारण कम पैसे लेकर काम करते हैं जिससे हमारी तय दिहाड़ी पर असर पड़ता है और अन्य मज़दूरों को भी कम पैसे में काम करना पड़ता है।
अंकुर जी व अन्य लोगों ने सुझाव देते हुए कहा कि जो दिल्ली सरकार द्वारा तय की गई न्यूनतम मज़दूरी है उससे एक पैसा भी कम नहीं लेना चाहिए।
इसी के साथ मज़दूर साथियों ने कहा कि हमें इतनी सारी जानकारियों व अधिकारों से अवगत कराया इसके लिए हम संगठन के आभारी हैं और हम सब लोग संगठन के साथ तन मन और धन से जुड़े रहेंगे। इस बैठक का संचालन संगीता जी व बिन्दू जी ने किया।
-Ravi Kumar

ImageImageImageImage

%d bloggers like this: